पुतले हम माटी के

[ लेख ‘गांधी मार्ग’ के नवंबर-दिसंबर २०१२ अंक में छपा है ]

आज हम मंगल ग्रह के भूगोल के करीबी चित्र देखते हैं, चाँद पर पानी
खोजते हैं और जीवन की तलाश में वॉएजर यान को
सौरमंडल के बाहर भेजने की कूवत रखते हैं। लेकिन हमारे शरीर पर
और उसके भीतर रहने वाले अरबों जीव
जीवाणुओं
के बारे में हम बहुत कम ही जानते हैं। जबकि इनसे हमारा लेन
देन
हर रोज
, हर पल होता रहता है। विज्ञान इस आदिअनंत संबंध
का एक सूक्ष्म हिस्सा अब समझने लगा है। इस संबंध का स्वभाव
होड़ का कम
, सहयोग का ज्यादा है। इस नई खोज से हमारी
एक नई परिभाषा भी उभरती है। ’मैं कौन हूँ’ जैसे शाश्वत
और आध्यात्मिक प्रश्न का भी कुछ उत्तर मिल सकता है।

—————-

सोपान जोशी

—————-

जीव शब्द से हम सब परिचित हैं। अणु से भी हम सब नहीं तो हममें से ज्यादातर परिचित हैं ही। पर जब ये दोनों जुड़ कर जीवाणु बनते हैं तो उनके बारे में हममें से मुट्ठीभर लोग भी कुछ ज्यादा जानते नहीं।

इन सूक्ष्म जीवाणुओं को समझना हमारे लिए अभी भी टेढ़ी खीर है। कुछ यूं कि सूई के छेद से एक मोटी सी रस्सी निकालना। प्रकृति ने हमें जैसी आँख दी है उससे मंगल ग्रह की लालिमा तो दिख जाती है पर उन करोड़ो जीवों का रंग नहीं दिखता जो हमारी अपनी चमड़ी पर रहते हैं। अगर फोड़ा हो जाए तो उसकी लाली देख हम सोचते हैं कि किसी रोगाणु से संक्रमण हो गया होगा। पर उन हजारों जीवाणुओं से हमारा परिचय भी नहीं होता जो घाव को जल्दी से भरने के लिए आ बैठते हैं और किसी नए रोगाणु को घर बनाने से रोकते भी हैं।

बदले में उन्हें हमारी चमड़ी से खाना मिलता है, मृत कोशिकाओं का। ये जीवाणु हमारे चर्म पहरेदार ही नहीं, चर्म सफाई कर्मचारी भी हैं। लेकिन हम इन्हें जान नहीं पाते। अगर ये हमें सफाई और पहरेदारी का बिल भेजें तो शायद हमें इनकी असली कीमत पता लगे। या जब तब ये हड़ताल कर दें। लेकिन जीवाणु तो अपना काम सतत करते रहते हैं, चाहे हम उन्हें जानें या न जानें। वे हमसे कभी कोई प्रशस्ति पत्र नहीं माँगते, कभी अपने अधिकारों के लिए क्रांति का उद्घोष नहीं करते, मँहगाई भत्ता भी नहीं माँगते। चाहे काम कितना भी कठिन हो वे सहज रूप से उसे करते रहते हैं। काम भी इतना कठिन करते हैं कि हम उसे करने के लिए बहुत मँहगे कारखाने भी बना लें तो भी उस किफायत से नहीं कर पाएंगे।

प्रकृति का व्यापार सहज लेनदेन से, परस्पर सहयोग से चलता है, यह किसी कागज के अनुबंध पर दस्तखत करने से नहीं चलता। इसमें कोई वकील और कचहरी नहीं होती, कोई हुंडी या कर्जा नहीं होता। उसका कोई संविधान नहीं होता और किसी के भी अधिकार कानून में नहीं लिखे होते। इस दुनिया की सहज आपसदारी हमारे निर्णयअनिर्णय, हमारी चेतना तक की मोहताज नहीं है।

हमारी समझ का दायरा कुछ छोटा है, इस सूक्ष्म दुनिया को समझने के लिए। और हमारी नजर है जरा मोटी। वर्ना क्या कारण है कि हम अपनी नाक पर बैठे जीवन के मूल को समझने की बजाए मँहगे से मँहगे अंतरिक्षयान बना धरती से दूर जीवन खोजने फिरते हैं ? करें भी क्या? जो दिखता नहीं उस पर हमें सरल विश्वास नहीं होता। संत सूरदास को बिना दृष्टि के जो दिखा था वो तो उनके कवित्त से महसूस ही किया जा सकता है। उनकी श्रद्धा पर वैज्ञानिक शोध बेकार ही होगा।

सूरदासजी की आँखों में रौशनी चाहे न भी रही हो, संभावना ये है कि उनकी पलकों पर डेमोडेक्स माइट नाम का सूक्ष्म कीड़ा जरूर रहा होगा। वो इस पत्रिका के कई पाठकों की पलकों पर भी बैठा होगा। आठ पैर वाला ये नन्हा जीव हमारी पलकों की जड़ के आसपास विचरता है। हमारी उमर बढ़ने के साथ डेमोडेक्स का साथ भी बढ़ता जाता है। रात को जब हम सो जाते हैं तब यह हमारे चेहरे की चमड़ी पर टहलने निकलता है। लंबी दौड़ का यह कीड़ा एक घंटे मे कोई एक सेंटीमीटर की दूरी तय कर लेता है। कभीकभी ये उत्पात भी करता है, तब पुतली पर सूजन या लाली आ जाती है। पर ज्यादातर इसकी उपस्थिति का हमें आभास नहीं होता।

हमारे शरीर के ऊपर और भीतर रहने वाले इन सचमुच अनगिनत प्राणियों में डेमोडेक्स का आकार काफी बड़ा है। फिर भी इनमें ज्यादातर तो माईक्रोस्कोप के नीचे भी मुश्किल से ही दिखते हैं। इनकी संख्या हमारे शरीर की अपनी कोशिकाओं से दस गुणा अधिक होती है। वैज्ञानिक अनुमान लगाते हैं कि हम में से हर एक का शरीर कोई 90 लाख करोड़, यानी 9,00,00,00,00,00,000 जीवाणुओं का घर है। यदि आपका वजन 90 किलोग्राम मान ले, तो इसमे एक से तीन किलोग्राम वजन तो केवल आप के शरीर पर जीने वाले जीवाणुओं का होगा है। पर ये बोझा कोई बोझा नहीं है। एकदम उठाने लायक है, क्योंकि इस एक किलो से बाकी 89 किलो का काम चलता है।

अगर हमारेआपके शरीर में, हर शरीर में जीवाणु इतनी तादाद में हैं तो हमें भला इनकी मौजूदगी का आभास क्यों नहीं होता? सीधा कारण है। जो जीव माइक्रोस्कोप के नीचे भी मुश्किल से दिखें उनसे परिचय कैसे हो? उनका कोई जनसंपर्क विभाग भी तो नहीं होता जिसके प्रवक्ता टी.वी. पर आकर बयान दें। ये थे तो हमारे साथ बरसों से पर पहली बार इन्हें हमने माइक्रोस्कोप के नीचे आज से 336 साल पहले देखा था। लेकिन इनकी जानकारी मिलनी तो हमें 150 साल पहले ही शुरू हुई। इन जीवाणुओं का पता चलने के बाद भी इनसे हमारा परिचय एकतरफा ही रहा।

ज्यादातर शोध बीमारी फैलाने वाले रोगाणुओं पर ही हुई है। वह भी एंटीबायोटिक दवा बनाने वाली कंपनियों ने ही कि है, क्योंकि जितनी जानकारी रोगाणु की हो उतना ही दवाएं बनाना आसान हो जाता है। जो जीवाणु कोई बीमारी नहीं फैलाते या कहें कि हमें फायदा ही कराते हैं, दवा बनाने वालों ने उनकी अवहेलना ही की है। शोध करने वालों की दृष्टि में ऐसा कुछ होता है कि उन्हें अच्छाई सरलता से दिखती नहीं है। निरोग पर शोध करने से मुनाफा नहीं होता। मुनाफे के लिए बेहतर है कि रोग ढूँढ़े और फिर उस रोग का उपचार खोजें। दवाएं बेचने वाले हमें हर तरह से जीवाणुओं का हौवा ही बताते हैं। बैक्टीरिया और वाएरस के नाम ऐसे लिए जाते हैं कि जैसे वे कोई आतंकवादी संगठन हों। इससे स्वस्थ विचार फैले न फैले, घोर अज्ञान जरूर फैलता है।

विज्ञान और शोध की दुनिया में हमारे इन मित्र जीवाणुओं के प्रति प्रीति और रुचि हाल ही में बढ़ी है। वो भी इसलिए कि एंटीबायोटिक दवाओं का असर कम होने लगा है। रोगाणु इन्हें सहने की ताकत बना लेते हैं, और मजबूत हो जाते हैं। फिर और नए और मँहगे एंटीबायोटिक पर शोध होता है। इस शोध के दौरान वैज्ञानिकों को समझ आया कि शरीर में कई और जीवाणु हैं और इनसे हमारा संबंध धरती पर जीवन के उद्गम के समय से है।

यह कहना ज्यादा सही होगा कि ये हमारे पुरखे ही हैं। धरती पर जीवन का सबसे व्यापक प्रकार सूक्ष्म जीवाणु ही हैं। चाहे वनस्पति हों या पशु जीवाणुओं के बिना किसी का जीवन एक क्षण भी नहीं चले। मिट्टी में मौजूद जीवाणुओं के बिना पौधे जमीन से अपना खाना नहीं निकाल सकते। बिना जीवाणुओं के मरे हुए पौधे और पशु वापस खाद बन कर नए जीवन में नहीं पहुँच सकते। जीवन की लीला की सबसे पुरानी, सबसे बुनियादी इकाई जीवाणु ही हैं।

हमारे शरीर में इनका खास ठिकाना है हमारा पाचन तंत्र। यानि मुँह, पेट और हमारी आंत। यहाँ करोड़ों जीवाणु हमारे भोजन के एक सूक्ष्म हिस्से पर पलते हैं। इनके रहने से हमें तीन बड़े फायदे हैं।

एक, इनकी उपस्थिति भोजन को पचाने में बहुत अहम है। भोजन में मौजूद कई तरह के जटिल रसों को ये सरल बनाते हैं, इस रूप में लाते हैं कि हमारी आंत से यह रस खून में सोखा जा सके, जहाँ से वो हमारे शरीर के हर हिस्से में पहुँचता है। जैसे फसल को काट कर, साफ कर के बोरों में बाँधा जाए ताकि अनाज की जहाँ जरूरत हो वहाँ मिल जाए। काम ये बहुत मेहनत का है, जैसे कच्ची सामग्री से भोजन तैयार करना। जैसे कोई रसोइया सब्जी से तरकारी, चावल से भात और गेहूँ से रोटी बनाता है वैसे ही ये करोड़ो जीवाणु हमारे खाने को सुपाच्य और सुगम बनाते हैं।

इसे करने के लिए कई तरह के रसायन चाहिए। हमारा शरीर इतने रसायन खुद नहीं बना सकता सो वह इन जीवाणुओं को अपने भीतर पालता है। जीवाणु ये काम विश्व स्वास्थ्य संगठन या स्वास्थ्य मंत्रालय के निर्देश पर नहीं करते हैं। उन्हें रोटी, कपड़ा और मकान मिलते हैं हमारी आंत में। हम सभी को यह अनुभव हो चुका है कि जब किसी रोगाणु को मारने के लिए हम एंटीबायोटिक दवाएं लेते हैं तो हमारा पाचन और स्वाद, दोनों बिगड़ जाता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि ये दवाएं रोगाणुओं को मारें या न मारें, हमारे मित्र जीवाणुओं को तो जरूर ही मार देती हैं। जब तक ये सूक्ष्म मित्र हमारे शरीर में लौट कर वापस न आएं, खाना पचाना तो कठिन होता ही है, मुँह में जाएका भी नहीं रहता। जिसे हम दवा मानते हैं वह नए रोग का कारण भी बन जाती है।

यह नया शोध समझा रहा है कि हमारा मोटा होना या न होना हमारे पेट में रहने वाले जीवाणुओं पर निर्भर होता है। शायद आप ऐसे लोगों को जानते हों जो बहुत ज्यादा खाते हैं फिर भी दुबले ही बने रहते हैं। फिर ऐसे भी लोग मिलते हैं जिनका भोजन बहुत ज्यादा नहीं होता पर शरीर भारी होता है। मधुमेह रोग में भी जीवाणुओं के संतुलन बिगड़ने का हाथ देखा जाने लगा है। हमारे चित्त पर, आनंदअवसाद में, दुखसुख में तो जीवाणुओं का हाथ होता ही है, हमारे निर्णय और विवेक पर भी उनका दखल रहता है। हमारे पेट में रहने वाला एक जीवाणु हेलिकोबैक्टर पाइलोरी के नाम से जाना जाता है। कभीकभी इससे पेट के कुछ रोग हो जाते हैं, जो कैंसर जैसा खतरनाक रूप भी ले सकते हैं। एंटीबायोटिक दवाओं से इसे बहुत कम करने के बाद पता चला की इसकी मौजूदगी पेट के स्वास्थ्य के लिए जरूरी भी होती है, क्योंकि ये पेट के तेजाब को काबू में रखता है और पेट के बारीक रसायनशास्त्र में अच्छा दखल भी देता है। एक तरह के रोग कम करने के फेर में हम किसी और तरह के रोग बढ़ाने में लगे हैं। दवाओं पर खर्चा बढ़ा, सो बात अलग।

विज्ञान तो अब हममें से हर किसी के शरीर को एक अलग ग्रह के रूप में देखता है, जिस पर कई करोड़ों प्राणी जीते हैं। कुछ वैसे ही जैसे धरती पर हम कई तरह के पेड़पौधों और पशुओं के साथ जीते हैं। अंतरिक्ष से देखने पर जितना महत्व हमारे अस्तित्व का है, जीवाणुओं का हमारे शरीर पर महत्व उससे कहीं ज्यादा है। और अंतरिक्ष से देखते हुए किसी को पहचान लेना जितना कठिन है, उतना ही कठिन हमारे शरीर पर रहने वाले जीवाणुओं को पहचानना है। अलगअलग इलाकों में रहने वाले लोगों के पेट में जीवाणु भी अलगअलग तरह के होते हैं। इसका एक संबंध खानपान से भी है। जिस तरह का भोजन एक जगह खाया जाता है उसे पचाने वाले जीवाणु भी खास ही होते हैं।

मित्र जीवाणुओं से दूसरा फायदा हमें ये होता है कि ये रोगाणुओं को दबा कर रखते हैं। कुछ वैसे ही जैसे करोड़ो सैनिक हमारे शरीर की पहरेदारी कर रहे हों। क्यों करते हैं ये ऐसा? क्योंकि रोगाणु भी उसी भोजन का पीछा करते हैं जिस पर ये हमारे शांति सैनिक पलते हैं। अगर खाना रोगाणु को मिल गया तो ये क्या खाएंगे? और फिर अगर रोगाणु ने हमें बीमार कर दिया तो उस बीमारी का असर इन पर भी होता है। हमारे स्वास्थ्य में इनका स्वास्थ्य होता है।

इनसे हमारा संबंध करोड़ों साल और लाखों पीढ़ियों का है। हमारी दोस्ती जन्मजात है, चाहे हमें पता हो या नहीं। अपने दोस्त को नुकसान पहुँचाने वाले को ये आड़े हाथ लेते हैं। हर रोज, हर क्षण। सरल बात को कठिन बना कर कहने से यदि ज्यादा असर पड़ता है तो कहा जा सकता है कि इनका घोष वाक्य हैः अर्हनिशंसेवामहे। क्योंकि इनकी रुचि हम में है, हमें दवा बेचने वाली कंपनियों में नहीं। तो मित्र जीवाणुओं पर शोध कम ही हुआ है। बाजारी चिकित्सा तो अभी सौ साल पुरानी भी नहीं है, पर मनुष्य को विज्ञान कोई दो लाख साल पुराना आंकता है। उसके पहले भी हमारे पूर्वज किसी न किसी रूप में रहे ही होंगे। शरीर में रोगप्रतिरोध के बिना उनका समृद्ध होना नामुमकिन था। अगर मनुष्य जाति बची है तो इसलिए कि जितने रोग फैलाने वाले कीटाणु रहे हैं उससे, कहीं ज्यादा मित्र जीवाणु रहे हैं जिनकी समृद्धि हमारी समृद्धि पर ही टिकी हुई थी।

रोगाणु और मित्र जीवाणुओं का संबंध जानने के लिए एक बीमारी का किस्सा देखिए। इसे अंग्रेजी में कोलाइटिस कहते हैं और ये क्लॉस्ट्रोडियम डिफ्फिसाइल नाम के बैक्टीरिया से होता है। ये बैक्टीरिया जाने कब से मनुष्य की निचली आंत में घर करे बैठा है, लेकिन वहाँ रहने वाले मित्र जीवाणु इस ढीठ को काबू में रखते हैं, इसे उत्पात मचाने नहीं देते। इस रोगाणु ने एंटीबायोटिक दवाओं को सहन करना सीख लिया है। लेकिन इसे काबू में रखने वाले जीवाणु इन दवाओं से मारे जाते हैं। नतीजा ये होता है कि एंटीबायोटिक लेने के बाद इस रोगाणु का प्रकोप बढ़ जाता है। इसके ऐसे प्रकार भी बन गए हैं, जिन पर हमारी किसी भी दवा का असर नहीं होता। हाल ही में इसका एक नया उपचार ढूँढा गया है। किसी स्वस्थ व्यक्ति के मल का एक छोटा सा हिस्सा रोगी की आंत तक पहुँचा दिया जाता है। बस, मित्र जीवाणुओं के पहुँचते ही इसका प्रकोप घट जाता है।

जीवाणुओं से तीसरा फायदा मिलता है हमारे रोगप्रतिरोध तंत्र को। प्रकृति ने हमें सहज ही रोगों से लड़ने की जो शक्ति दी है वह कभी कमजोर भी पड़ती है। तब उसको संबल मिलता है जीवाणुओं से। जैसे जीवाणुओं पर शोध कम ही हुआ है, ठीक वैसे ही माँ के दूध पर भी शोध कम ही हुआ है। जो थोड़ा शोध हुआ है वह शिशु आहार बनाने वाली कंपनियों ने ही किया है जो माँ के दूध का पर्याय बन चुके पैकेट या डिब्बे में दूध का पाउडर बेचती हैं। ये तो सबको मालूम ही रहा है कि माँ के दूध पर पले बच्चों की रोगप्रतिरोध की ताकत ज्यादा होती है, शरीर कहीं मजबूत होता है। पर यह क्यों होता है यह रहस्य ही था।

माँ के दूध में ऐसे कई रसायन होते हैं जो शिशु का पेट किसी भी सूरत में पचा ही नहीं सकता। विज्ञान को पता नहीं था कि माँ का शरीर अपनी इतनी ऊर्जा खर्च क्यों करता है ऐसे रस बनाने में, जिनका शिशु को कोई लाभ हो ही नहीं। इसका जवाब हाल ही में कुछ वैज्ञानिकों ने खोजा है। उन्होंने पाया कि यह रस उन जीवाणुओं को पोसता है जो शिशु के पेट में रोगाणुओं से लड़ते हैं और शिशु के अपने रोगप्रतिरोध को सहारा देते हैं। माँ का दूध इन रक्षकों को भी पोसता है। माँ का दूध मिलने से पहले ही शिशु को फायदेमंद जीवाणु माँ के शरीर से जन्म के समय से मिलने शुरु हो जाते हैं।

लेकिन इस विषय पर शोध करने से माँ का कर्ज चुक नहीं जाता। उसके लिए तो हमें अपने आचरण में श्रद्धा लानी होगी। आजकल जब कुछ लोग अपने बूढ़े मातापिता को भूल जाते हैं, तो उनमें कमी शोध की नहीं, श्रद्धा की होती है। धरती को भी हर संस्कृति ने माँ का ही रूप माना है।

हम शुचिता के नाम पर हर वो काम करने लगे हैं, जिससे मिट्टी का स्वभाव बिगड़े। इसका सबसे बड़ा उदाहरण है सीवर और कृत्रिम खाद। प्रकृति का नियम है कि जो जीवन मिट्टी से पेड़पौधों के रूप में उगता है वो प्राणियों के पेट से होता हुआ वापिस मिट्टी में मलमूत्र के रूप में जाए। मिट्टी में ऐसे करोड़ों जीवाणु बैठे रहते हैं जो हमारे मलमूत्र पर जीते हैं और उसे वापिस पौधों का खाना बना देते हैं। ये जीवन की सहज लीला है और हमारा जीवन इसी से चलता हैं। हजारों पीढ़ियों से मनुष्य का मलमूत्र इस सुंदर लीला की एक कड़ी रहा है। मिट्टी की उर्वरता का एक स्रोत यह भी रहा है।

पर युरोप के शहरों में आज से 150 साल पहले वहाँ की घोर गंदगी कम करने के लिए बड़ेबड़े सीवर बने। पहले युरोप के शहरों में मलमूत्र सड़कों पर बहता था। कुछ लोग तो ये मानते हैं की ऊँची एड़ी के जूतों का इस्तेमाल इस नर्क से बचने के लिए ही हुआ था, जो बाद में फैशन बन गया। युरोप की नदियों की हालत तब हमारी आज की गंगायमुना से बहुत बेहतर नहीं थी। सीवर बना कर और अपने लोगों को अमेरिका जैसे दूसरे महाद्वीपों पर भेज कर अपनी आबादी धटा कर युरोप ने अपने शहर साफ जरूर कर लिए हैं। लेकिन इसकी कीमत उनकी नदियां ने चुकाई है। दुनिया में अब तक ऐसा कोई सीवर तंत्र नहीं बना जो जल स्रोतों को दूषित न करे। आज शहर अपने जल स्रोत अपने मलमूत्र से बिगाड़ देते हैं, फिर दूरदूर से किसी और का पानी छीन कर लाते हैं।

दूसरी तरफ खाद की कमी से मिट्टी की उर्वरता घटी तो कृत्रिम खाद बना ली गई। इस खाद से मिट्टी का ठीक वही हाल हो रहा है, जो हमारे शरीर में एंटीबायोटिक से हो रहा है। मित्र जीवाणु घट रहे हैं और रोगाणु दिनदिन और ज्यादा ताकतवर बनते जा रहे हैं। कृत्रिम खाद में कुल जितनी उर्वरता होती है, उसका एक छोटा अंश भर पौधे को मिलता है। क्योंकि उसे पचा कर पौधे के इस्तेमाल लायक बनाने के लिए जीवाणु उसमें होते नहीं। जीवाणुओं को रहने के लिए घर और खाने के लिए भोजन चाहिए। वह उन्हें जीवित चीजों के सड़नेगलने से ही मिलता है। ठीक जैसे हमारे पेट के भीतर होता है।

कृत्रिम खाद का बड़ा हिस्सा जल स्रोतों में बह जाता है, जहाँ वह हमारे मलमूत्र के साथ मिल कर प्रदूषण करता है। सीवर को साफ करने के संयंत्र तो और बड़ा खतरा बनते जा रहे हैं। यहाँ पर रोगाणुओं को कम मात्रा में वह एंटीबायोटिक मिलते हैं जो हमारी पेशाब के रास्ते वहाँ पहुँचते हैं। रोगाणुओं को इनसे प्रतिरोध बनाने का मौका जैसा यहाँ मिलता है वैसा और कहीं नहीं मिलता। अब यह बात सामने भी आने लगी है कि सीवर साफ करने के संयंत्र महाबली, या बाहुबली रोगाणु (अंग्रेजी में सुपरबग‘) बनाने के कारखाने बनते जा रहे हैं। इन रोगाणुओं से होने वाले रोग लाइलाज हैं। हाल ही में ऐसा एक रोगाणु मिला था जिसका नाम नई दिल्लीपर रखा गया। फिर खूब विवाद हुआ। विवाद भी नाम पर ही हुआ, हमारे आचरण पर नहीं।

युरोप की इसी सीवर मानसिकता को हमने विकास की पराकाष्ठा मान लिया है। आजकल हमारी सरकार देश को खुले में शौच जाने से मुक्त करने की भरसक कोशिश कर रही है। अगर हर किसी के पास सीवर का शौचालय होगा तो हमारे जल स्रोतों का क्या होगा यह बात सरकार कतई नहीं सोचना चाहती। शायद इसलिए कि निर्मल भारत परियोजना हमारी शर्म से उपजी है, हमारे विवेक से नहीं। हमें खुले में शौच जाने की शर्म तो दिखती है लेकिन अपनी नदियों और तालाबों को सीवर बनाने में कोई शर्म नहीं लगती। जिन शहरों में हमारी सरकारें बैठती हैं वे शहर दूर के गाँवों का स्वच्छ पानी छीन लाते हैं। जो दिखता नहीं है उसकी चिंता भी नहीं होती। लेकिन बेशर्मी तो हमारे शहरों में जो दिखता है उसकी भी होती है। खुले में शौच जाना शर्म का सबब बनता है। शहर भर का मैला नदीतालाब में उढ़ेल देने में हमें कोई शरम नहीं आती।

इसमें भी शोध और श्रद्धा का फर्क दिखता है, माँ का कर्ज के प्रति। गँगा को हमने अपनी माँ माना है लेकिन शोध से ही उसके पानी के बारे में जो 100 साल पहले पता चला था, उससे हम मुँह फेरे बैठे हैं। गँगा का जल घर में बरसों तक रखे रखने से खराब क्यों नहीं होता ये समझने की कोशिश सन् 1896 मे एक अंग्रेज चिकित्सक हॅनबरी हॅनकिन ने की थी। वे जानना चाहते थे कि गँगा जल में हैजे के रोगाणु तीन घंटे में ही खत्म कैसे हो जाते हैं। ये बात हमारे गाँव के लोग ही नहीं, ईस्ट इंडिया कंपनी के कारिंदे भी जानते थे। इसलिए लंदन वापस जाते समय वे पानी के जहाज में गँगा का पानी ही रखते थे। श्री हॅनबरी के शोध से विज्ञान की एक नई विधा बनी। इससे ऐसे वायरस की खोज हुई जो बैक्टीरिया को खत्म करते हैं। विज्ञान इन्हें फैजया ‘बैक्टीरियोफैज’ कहता है।

गँगा जल में फैजकी मात्रा बहुत अधिक रही है। हमारे पूर्वजों ने चाहे शोध न किया हो, गँगा जल का ये कमाल तो देखा ही होगा। इसीलिए गँगा जल को माँ के दूध की तरह देखा जाता रहा है। क्या मालूम इसीलिए लोग गँगा जल लाकर अपने तालाब और कुँओं में डालते थे ताकि गँगा जल को साफ रखने वाले तत्व उनके तालाब और कुँओं में भी फैलें और उस पानी को भी निर्दोष बनाए रखें। पर जिस विज्ञान के शोध से गँगा के बारे में हमें ये जानकारी मिली है उसी विज्ञान ने हमें गँगा में अपना सीवर बहाने को भी राजी कर लिया है। सरकारें तो इसी को विकास मानती हैं।

ये अजब शोध है जो पहले हमारी श्रद्धा को पाटता है और फिर हमें बताता है कि हमारी श्रद्धा का वैज्ञानिक कारण क्या है! जीवाणुओं के जो थोड़े बहुत गुण हमें पता चले हैं वे तब जब हमने अपने शरीर एंटीबायोटिक दवाओं के हवाले कर दिए हैं। विज्ञान की एक और विधा है जो कहती है कि जीवाणु और रोगाणु की इस लीला को मिटाने की कोशिश में हम नए तरह के रोगों में फँस रहे हैं। इन्हें एलर्जी कहा जाता है और इनका एक रूप दमा है, जो हमारे समाज में अब सब तरफ, सब उमर के लोगों में बढ़ रहा है। ऐसा माना जाता है कि मिट्टी में पलनेखेलने वाले बच्चों को दमा होने की आशंका कम ही होती है क्योंकि उनका शरीर उस मिट्टी के पास रहता है, जिससे हम बने हैं।

हमारे इस शरीर को बनाने में करोड़ों जीवाणुओं की सेवा लगी है। लेकिन विज्ञान जो हमारा ये नया स्वरूप दिखा रहा है, वह इतना नया भी नहीं है। कई संस्कृतियों ने इस दर्शन को और भी सुंदर रूप में समझा है। वह भी हजारों बरस पहले।

आदमी’ शब्द बना है पुराने यहूदी शब्द ‘अदामा’ से, जिसका अर्थ है मिट्टी। अंग्रेजी का ह्यूमनभी लैटिन के ह्यूमससे बना है, और इसका भी अर्थ मिट्टी है। जिस मिट्टी से हम बने हैं उसके प्रति केवल शोध का भाव रखना हमारा उथलापन ही होगा। उसमें थोड़ी सी खाद श्रद्धा की भी डालनी पड़ेगी, फिर से।

हम कभी न भूलें कि हम हैं माटी के ही पुतले।

************

Advertisements


Categories: Public Health, Science, Water

Tags: , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: