नचिकेता

पुरखों से संवाद

… मृतकों से संवाद और पुरखों से संवाद, ये दो अलग बातें हैं। इस अंतर में जीवन के एक रस का भास भी होता है।   अनुपम मिश्र जो कल तक हमारे बीच थे, वे आज नहीं हैं। आज हम… Read More ›